कोरोना बना आफत: गोवा के साथ कई प्रदेशों में नहीं मन सकेगा न्यू ईयर सेलिब्रेशन 

नई दिल्ली। नया साल आने में दो दिन का समय शेष बचा है। ऐसे में अगर आप जश्न का प्लान बना रहे हैं तो पहले संबंधित जगह के नियमों के बारे में पता कर लें। जिससे आपका प्रोग्राम फीका न पड़े।

यह हम इसलिए कह रहे हैं क्यों कि कोरोना वायरस के कारण देश के प्रत्येक राज्य जहां टूरिस्ट आते हैं, वहां सावधानी के लिए कई नए नियम बना दिए हैं। इन राज्यों में मध्यप्रदेश के साथ गोवा और राजस्थान शामिल है। कई सरकाराें ने हाल में कारोना महामारी के चलते नए साल के जश्न पर पाबंदी लगा दी है। इस दौरान आतिशबाजी पर रोक तो लगी है इसके साथ कुछ राज्यों में नाइट कर्फ्यू  सिस्टम शुरू कर  दिया है। 

कोरोना महामारी के चलते गोवा सरकार ने भी नए साल के जश्न के लिए कड़े दिशा निर्देश जारी किये हैं। इनमें सबसे बड़ा निर्णय विदेशी पर्यटकों पर प्रतिबंध लगाना है। इंग्लैंड में वायरस के नए स्ट्रेन का पता चलने के बाद गोवा में नए साल नववर्ष के जश्न और पार्टियों के फीका रहने के आसार हैं। 

बता दें कि 2021 का स्वागत करने के लिए विदेशों से  हजारों  की संख्या में पर्यटक भारत आते हैं।  उनका सबसे पसंदीदा स्थल गोवा होता है। इस साल भी कई पर्यटक विदेशों से भारत आए हैं। लेकिन वे गोवा में नए साल को सेल‍िब्रेट नहीं कर सकेंगे। नए साल के कार्यक्रम में अब 100 से ज्यादा लोगों के शामिल होने पर रोक है। 

इस कार्यक्रम के लिए भी स्थानीय पुलिस-प्रशासन से अनुमित लेनी होगी। मंजूरी के बाद ही कोई कार्यक्रम आयोजित होगा। इस दौरान भी लोगों को कई सख्त नियमों का पालन करना होगा। नई गाइडलाइन में कहा गया है कि खुली जगह पर पूर्ण क्षमता के 40 प्रतिशत लोग ही इकट्‌ठा हाे जाएंगे। शराब की दुकानों के पुलिस बल की ड्यूटी लगेगी। 

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए  राजस्थान की सरकार ने नए साल पर किसी भी प्रकार के जश्न पर रोक लगा दी है। सरकार ने लोगों से अपील की है कि सभी अपने घर पर ही नया साल सैलीब्रेट करें। इसी के साथ महाराष्ट्र  सरकार ने 5 जनवरी तक रात 11 से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है। यही नियम कर्नाटक में लागू होगा।

(cvn24.com से सीधे जुड़िए और शेयर कीजिये खबर। अपनी खबर ई-मेल cvn24.media@gmail.com, WhatsApp के इस नंबर 98262 74657 पर या SMS कर सकते हैं।)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *