5 हजार का कर्ज देकर 3 साल कराई बंधुआ मजदूरी, व‍िरोध क‍िया तो दबंगों ने जिंदा जलाया

गुना। परिवार का खर्चा चलाने के लिए एक आदिवासी युवक को दबंगों से पांच हजार रुपए उधार लेना भारी पड़ गया । इन पैसों को चुकाने के लिए युवक ने दबंगों के घर तीन साल बंधुआ मजदूरी की लेकिन कर्ज नहीं पटा तो उसने दूसरी जगह काम करने की ठानी। जब इस बात का पता दबंगों को लगा तो उन्होंने युवक को घर से 30 किलोमीटर दूर ले जाकर जिंदा जला दिया। परिवार ने किसी तरह उसे अस्पताल की देहरी तक तो पहुंचा दिया लेकिन उसकी जान नहीं बचा पाया।

घटना मध्यप्रदेश के गुना जिले की है। परिवार के अनुसार करीब तीन साल पहले आरोपी राधेश्याम ने आदिवासी युवक विजय कुमार को घर खर्च के लिए 5000 रुपए उधार दिए। इसके बदले में विजय ने राधेश्याम के घर में खेती से जुड़ा काम करना शुरू कर दिया। यहां उसके साथ बंधुआ मजदूर की तरह व्यवहार हुआ। तीन साल मजदूरी करते-करते वह थक गया। बीते शुक्रवार को युवक ने राधेश्याम से हिसाब की बात की लेकिन उसकी बातों को अनसुना कर दिया गया। इसके बाद विजय ने काम छोड़ने की बात कही। इस पर राधेश्याम भड़क गया। इस दौरान दोनों के बीच काफी विवाद हुआ। जब विजय नहीं माना तो आरोपी उसे गुना से 30 किलोमीटर दूर ले गए। यहां उन्होंने विजय पर मिट्‌टी का तेल डालकर आग लगा दी और भाग गए।

विजय को आग की लपेटों में देखकर लोगों ने पुलिस को फोन करने के साथ घरवालों को सूचना दी। परिवार के लोगों ने आनन-फानन में पहुंचकर उसे नजदीकी बमोरी स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया लेकिन डॉक्टरों ने विजय की गंभीर हालत को देखते हुए उसे जिला अस्पताल गुना भेज दिया लेकिन यहां रात एक बजे उसने दम तोड़ दिया। गुना एसपी राजेश कुमार सिंह के अनुसार परिवार को तत्काल 20,000 की आर्थिक सहायता उपलब्ध करा दी गई है। आरोपी को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ की जा रही है। आरोपी के खिलाफ पुलिस को एक वीडियो भी मिला है जिसमें मृतक ने घटना के लिए आरोपी राधेश्याम को जिम्मेदार ठहराया है।

दिन निकलने से पहले करा दिया पोस्टमार्टम
इस मामले में पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। पुलिस ने मामले को दबाने के लिए सुबह 5 से 6 के बीच पोस्टमार्टम करा दिया। इसके साथ ही परिजनों पर अंतिम संस्कार का दबाव भी बनाया। लेकिन कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं के आने से मामला बिगड़ गया। वे मृतक के परिवार सहित धरने पर बैठ गए। मांग माने जाने के आश्वासन के बाद अपरान्ह तीन बजे मृतक का अंतिम संस्कार हो सका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *