66 पॉर्न वीडियो और 600 अश्लील फोटो बयां कर रहे बच्चों के यौन शोषण की दरिंदगी

नई दिल्ली। अपने बच्चों पर नजर रखिए। वे किससे मिल रहे हैं। किसके साथ खेल रहे हैं। किससे बातें कर रहे हैं। सबका लेखा-जोखा अपनी नजरों के सामने रखिए। नहीं तो बांदा जैसी योन शोषण की घटना का शिकार आपका बच्चा भी हो सकता है। बच्चों के यौन शोषण मामले में गिरफ्तार हुए निलंबित जेई रामभवन की सुनवाई आज गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी।

लेकिन इससे बांदा के निवासी बेहद नाराज हैं। वे आरोपी को फांसी  देने की मांग कर रहे हैं। क्योंकि इस वीभत्स घटना के लिए वो स्वयं जिम्मेदार है। इससे पहले बुधवार को आरोपी की कोर्ट में पेश हुई जहां सीबीआई ने आरोपी की पांच दिन की रिमांड मांगी। फिलहाल आरोपी जेई मंडल कारागार में कैद है। उधर सीबीआई आरोपी इंजीनियर के घर से मिले आठ मोबाइल फोन, पेन ड्राइव और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक सामान को खंगाल रही है। उसके पास से 66 पॉर्न वीडियो और 600 फोटो बरामद हुई हैं। जो बच्चों के साथ हुई दरिंदगी को बयां करने के लिए काफी है। 

गरीब घर के बच्चों को बनाता था निशाना

जांच में पता चला है कि आरोपी आर्थिक रूप से कमजोर परिवार बच्चों को अपना निशाना बनाता था। इनकी उम्र  5 से 16 साल तक होती थी। अब तक उसने  50 बच्चों को अपना निशाना बना लिया है। इस दौरान वह  मोबाइल से वीडियो क्लिप बनाने के साथ फोटो खींचता था। बाद में इसे इंटरनेट के जरिए डार्क वेब पर बेचता था।

ऐसे देता था बच्चों को लालच

सीबीआई सूत्रों के अनुसार, रामभवन के निशाने पर दिहाड़ी मजदूरी करने वाले, फुटपाथ पर सामान बेचने वाले और ठेके पर काम करने वाले के बच्चे रहते थे। वह बच्चों को फंसाकर यौन शोषण करता था। वह ऐसे बच्चों को निशाना बनाता था, जिन्हें आसानी से कुछ पैसे, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, खाने-पीने का सामान या अन्य कोई वस्तु देकर काम निकाला जा सके। 

सीबीआई  बच्चों से  संपर्क कर खोलेगी राज

ऐसे बच्चे आसानी से उसका शिकार बन जाते थे। उसने अपने घर पर काम करने वाले बच्चों को भी नहीं बख्शा। मूलरूप से बांदा निवासी जेई रामभवन की पोस्टिंग आसपास के जिलों में ही रही। अब सीबीआई टीम पीड़ितों का पता लगाने और उनके बयान दर्ज करने और रामभवन के खिलाफ पुख्ता सबूत एकत्र कर केस को मजबूत करने की कोशिश कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *