Review: गर्म गोलियों से निकली ठंडी कहानी है गैंगस्टर गवली की ‘डैडी’

कहानी- फिल्म 70 के दशक की है. गवली मुंबई की एक चाल में रहता है. जो मजदूर मिल में काम करता है. लेकिन गरीबी और परिस्थितयां उसे आम इंसान रहने नहीं देती. वो अपने तीन दोस्तों के साथ जुआ, मटका खेलने लगता है. फिर एक दिन उसके हाथों एक मर्डर होता है…और फिर होता रहता है और धीरे-धीरे ये उसकी आदत में शुमार हो जाता है. गवली अंडरवर्ल्ड का एक जाना-पहचाना चेहरा बन जाता है. ये तीनों दोस्त मिलकर एक गैंग बना लेते हैं. ‘बीआरए’. बाबू, रामा और आनंद. ये गैंग मुंबई पर राज करता है. दूसरे गैंग के लोग गवली के नाम से ही थर-थर कांपते हैं. हां, लेकिन इस गैंग में एक खास बात है कि वो मासूम लोगों को नुकसान नहीं पहुंचाता. बीतते वक्त के साथ तीनों दोस्तों की दोस्ती में दरार पड़ती है. सब एक दूसरे को मार देते हैं. बच जाता है गवली. जो अपने आप में गोली बनकर दूसरों को छेदने के लिए काफी होता है. गवली और दाउद में दुश्मनी हो जाती है. दोनों एक दूसरे को चूहे और बिल्ली की तरह ठोकने की कोशिश में लगे रहते हैं. लेकिन फिर कुछ ऐसा होता है. गैंगस्टर गवली एक पॉलिटिशियन ‘डैडी’ बन जाता है. क्यों, कब, कैसे. ये आप फिल्म में ही देखिएगा.

अभिनय- गवली के किरदार में अर्जुन रामपाल जमे हैं. दाउद का किरदार फरहान अख्तर ने निभाया है. हालांकि दोनों ने बेहतरीन अभिनय किया है लेकिन सपाट पटकथा होने के कारण ज्यादा कुछ करने को नहीं मिला. किसी का कुछ खास ऐसा डायलॉग नहीं है जिसे याद रखा जा सके. अर्जुन रामपाल ने गवली जैसी मूछें, टोपी, सफेद कपड़े पहन लिए. लुक में वैसे लग भी रहे हैं. लेकिन उससे ज्यादा कुछ नहीं, बल्कि दाउद का किरदार ऐसा लगा है जैसे फिल्म में जबरदस्ती डाला गया है. एक आम गैंगस्टर फिल्म की तरह पुलिस और बदमाशों में लुका-छिपी चलती है. पुलिस के रोल में विजयकर नितिन (निशिकांत) का सहज और बेहतरीन अभिनय है.

फिल्म के बारे में कुछ और बातें- फिल्म का संगीत कुछ नहीं है. कई बार लगता है फिल्म कुछ लंबा खींच गई है. हां, फिल्म को देखते हुए ऐसा लगता है जैसे आप क्राइम पैट्रोल देख रहे हो. डायलॉग भी लाउड और क्लीयर नहीं हैं. ऐसा लगता है बस बुदबुदाए जा रहे हैं. गवली इंडियन क्राइम हिस्ट्री का एक बड़ा नाम रहा है इसे और बेहतर तरीके से फिल्माया जा सकता था. हां, अगर आप क्राइम फिल्में देखने के शौकीन हैं तो इसे देखने जा सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *