पीएम मोदी लोंगेवाला में जवानों के बीच मना रहे द‍िवाली, 1971 की जंग में खास थी ये जगह

नई दिल्‍ली। हर साल की तरह, इस बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दिवाली भारतीय सेना के जवानों संग होगी। वे राजस्‍थान के जैसलमेर पहुंच चुके हैं। यहां लोंगेवाला में जवानों के बीच दिवाली मना रहे हैं।

सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे, बीएसएफ महानिदेशक राकेश अस्‍थाना भी उनके साथ हैं। लोंगेवाला वही जगह है जहां 1971 की जंग में सिर्फ 120 भारतीय जवानों ने पाकिस्‍तान की कई टैंक टुकड़‍ियों की समाधि बना दी थी।

यह दुनिया के सबसे भयानक टैंक युद्धों में से एक माना जाता है। 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद से मोदी हर साल दिवाली जवानों के बीच मनाते हैं। वह उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और पंजाब जैसे राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर के अग्रिम इलाकों में सैनिकों के बीच मौजूद रहे हैं।

1971 की जंग का रुख तय करने वाली वो लड़ाई जैसलमेर के इसी रेगिस्‍तानी इलाके में हुई थी। पाकिस्‍तानी सेना की मंशा थी क‍ि तीन दर्जन से ज्यादा टैंक लेकर घुसेंगे और जैसलमेर कब्‍जा लेंगे। भारतीय सैनिकों की नजर उनकी हरकतों पर पड़ चुकी थी।

उस वक्‍त लोंगेवाला पोस्‍ट पर मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी कमांडर थे। उन्‍हें कहा गया कि या तो हमले को ज्‍यादा से ज्‍यादा देर तक रोकने की कोशिश करें, नहीं तो पीछे हट जाएं। चांदपुरी ने तय किया कि मरते दम तक पीछे नहीं हटेंगे। फौरन रणनीति बनाई गई। एंटी-टैंक माइन्‍स बिछा दिए गए। तीन-चार पाकिस्‍तानी टैंक तो इसी के चलते तबाह हो गए। रेत में आते ही टैंकों की हालत खस्‍ता होने लगे। चांदनी रात में भारतीय सैनिकों ने चुन-चुनकर दुश्‍मन के टैंकों को निशाना बनाया। बॉलिवुड ने इस लड़ाई पर ‘बॉर्डर’ नाम से फिल्‍म बनाई जिसमें सनी देओल ने चांदपुरी का किरदार अदा किया था।

(cvn24.com से सीधे जुड़िए और शेयर कीजिये खबर। अपनी खबर ई-मेल cvn24.media@gmail.com, WhatsApp के इस नंबर 98262 74657 पर या SMS कर सकते हैं।) 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *