JNU विवाद: 2 मार्च तक न्यायिक हिरासत में भेजे गए कन्हैया

नई दिल्ली: 

जेएनयू विवाद मामले में पटियाला हाउस कोर्ट ने कन्हैया कुमार को 2 मार्च तक न्यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल भेज दिया है। आज जब कन्हैया कुमार को कोर्ट में पेश किया जा रहा था तो वकीलों के समूह ने उन पर हमला कर दिया था, हालांकि पुलिस ने उन्हें बचा लिया।

इससे पूर्व निचली अदालत में मचे हंगामे के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पटियाला हाउस कोर्ट को कन्हैया कुमार केस की सुनवाई टालने का कहा था। साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने पुलिस को पटियाला हाउस कोर्ट परिसर को पूरी तरह खाली कराने का आदेश दिया है। कोर्ट ने पांच वकीलों और एक पुलिस अधिकारी की टीम बनाई है, जो तुरंत पटियाला हाउस कोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था की जांच करेगी और रिपोर्ट सौंपेगी। इस टीम में दुष्यंत दवे, एके सिन्हा, कपिल सिब्बल, एडी राव, हरिन रावल और राजीव धवन के नाम शामिल हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने जताई नाराजगी
गौरतलब है कि कोर्ट परिसर में आज फिर एक पत्रकार की पिटाई और वकीलों के हंगामे से सुप्रीम कोर्ट नाराज हो गया। कोर्ट ने नोटिस देकर दिल्ली पुलिस को फिर हाजिर होने का आदेश दिया। कोर्ट ने पुलिस को 10 मिनट में हाजिर होने का आदेश दिया था और कहा कि आखिर क्यों नहीं आदेश का पालन हुआ।

सुप्रीम कोर्ट ने सुरक्षा कड़ी करने को कहा था
दरअसल, आज सुबह मामले पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस और कोर्ट प्रशासन को कन्हैया की पेशी के दौरान सुरक्षा कड़ी करने को कहा था। कोर्ट ने पटियाला हाउस कोर्ट में कन्हैया की पेशी के लिए अंतरिम निर्देश दिए थे। कोर्ट ने कहा था कि कोर्ट परिसर में 25 पत्रकार मौजूद रह सकते हैं।  कोर्टरूम में कन्हैया के वकील, जेएनयू के दो फैकल्टी, दो दोस्त या परिवार के लोग, 5 पुलिसवाले और पांच पत्रकार मौजूद रहेंगे। साथ ही कोर्टरूम में जांच अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

वकीलों के दो गुटों में भिड़ंत
इससे पहले आज पटियाला हाउस कोर्ट में वकीलों के दो गुट बन गए और वे आपस में भिड़ गए थे। एक गुट कन्हैया के पक्ष में है दो दूसरा उसके खिलाफ। इससे पहले एक पत्रकार तारिक अनवर पर भी वकीलों ने हमला किया था। तारिक का कहना है कि पुलिस वहां मौजूद थी, लेकिन उन्होंने कोई एक्शन नहीं लिया।

दिल्ली पुलिस की खुफिया रिपोर्ट
जेएनयू मामले में दिल्ली पुलिस ने पूरी घटना की परिस्थितियों के आधार पर रिपोर्ट बनाई है। इस रिपोर्ट में यूनिवर्सिटी की गतिविधियों को लेकर जानकारी दी गई है। रिपोर्ट में लिखा गया है कि अफजल गुरु की बरसी मनाई जा रही थी। यह भी कहा गया है कि आपत्तिजनक नारे लेफ्ट से जुड़े छात्र संगठनों ने लगाए। रिपोर्ट में कहा गया है कि भरोसेमंद सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार वहां मौजूद था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *