दिल्ली हिंसा को बाद अफवाहों का दौर, नाले अभी भी उगल रहे लाशें

दिल्ली में हिंसा खत्म हो चुकी है, लेकिन हिंसा की अफवाहों का दौर चरम पर है। रविवार शाम करीब 7 बजे कई इलाकों में हिंसा की अफवाहें फैलीं। कहा गया कि शाहीनबाग में भगदड़ का माहौल है। तत्काल पुलिस पहुंची, पर हालात सामान्य थे।

अफवाहों की वजह से तिलकनगर, नांगलोई, सूरजमल स्टेडियम, बदरपुर, तुगलकाबाद, उत्तम नगर पश्चिम और नवादा मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया गया। रात सवा आठ बजे पुलिस ने ट्वीट किया- ‘सब जगह शांति है।’ इस ट्वीट के बाद मेट्रो स्टेशन खोले गए।

शाहीन बाग में जारी प्रदर्शन के पास दो गुटों में टकराव रोकने के लिए धारा 144 लगा दी गई। हिंदू सेना ने 1 मार्च को सड़क खाली करवाने का आह्वान किया था। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद हिंदू सेना ने प्रदर्शन वापस ले लिया। दूसरी तरफ, दंगा प्रभावित उत्तरपूर्वी दिल्ली में रविवार को हालात शांतिपूर्ण बने रहे। हालांकि, इलाके में अब भी भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है।

उत्तर पूर्वी दिल्ली में रविवार को तीन नालों से चार शव मिले। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि इनकी मौत का दंगे से कोई लिंक है या नहीं? अगर इनकी मौत दंगे में हुई होगी तो मौतों का आंकड़ा 46 पहुंच जाएगा।

अभी तक की जांच में सामने आया है कि 80 घर, 50 दुकानें, 200 वाहन, 2 स्कूल, 6 गोदाम, 4 फैक्ट्री और 4 धार्मिक स्थलों को आग के हवाले किया गया। सरकार हिंसा में हुए नुकसान का आकलन करने में लगी है। दंगे के मामले में अब तक 254 केस दर्ज हो चुके हैं। कुल 903 लोग हिरासत में लिए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *