50 हजार करोड़ तक पहुंचेगा पतंजलि का कारोबार, ये है बाबा रामदेव का फ्यूचर प्लान

बाबा रामदेव पतंजलि का कारोबार 50 हजार करोड़ तक पहुंचाना चाहते हैं. पतंजलि के टूथपेस्ट दंत कांती के प्रमोशन के एक कार्यक्रम में मीडिया से मुखातिब होते हुए बाबा ने अपनी ये ख्वाहिश जाहिर की. रामदेव ने कहा कि लोग अभी हमारा 5 हजार करोड़ का टर्नओवर देख कर घबराए हुए हैं. आगे ये 25-50 हजार करोड़ तक भी जाएगा. देश के लोगों को अच्छा और सस्ता उत्पाद मुहैया कराएंगे और जो भी प्रॉफिट होगा 100 प्रतिशत देश की सेवा में लगाया जाएगा.

मीडिया के सवालों में घिरे
पतंजलि के दंत कांती दंतमंजन को डेंटिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया नाम की एक संस्था ने अपने अध्ययन में पास किया. इसी सिलसिले में डेंटिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया के प्रेसिडेंट डॉक्टर अनिल धल्ला ने एक्रिडेशन सर्टिफिकेट बाबा रामदेव को दिया. लेकिन बाबा रामदेव और डॉक्टर धल्ला से जब मीडिया ने तीखे सवाल किए तो दोनों के लिए जवाब देना मुश्किल हो गया. पत्रकारों ने पूछा की आखिर डेंटिस्ट एसोसिएशन ऑफ इंडिया क्या है? क्या इसकी कोई कानूनी मान्यता है? और क्या ये उसी तरह नहीं है जिस तरह दूसरे दंत मंजन बेचने वाली किसी डेंटल एसोसिएशन के नाम का सहारा लेकर अपना प्रोडक्ट बेचती हैं?

देश को आर्थिक आजादी दिलानी है: रामदेव
बाबा ने मीडिया के सामने अपने फ्यूचर प्लान का खुलासा तो किया ही, साथ ही विदेशी कंपनियों को जमकर कोसा भी. बाबा ने कहा कि भारत को आर्थिक आजादी दिलानी है. लेकिन ‘आज तक’ ने जब बाबा से ये पूछा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेशी निवेश लाने के लिए विदेशी मुल्कों में दौरा कर रहे हैं और आप विदेशी कंपनियों को निशाना बना रहे हैं तो बाबा थोड़ा असहज हो गए लेकिन फिर कहा की सरकार तो कई तरह की बंदिशों में काम करती है, लेकिन मैं तो आम आदमी की तरह अपनी बात कह सकता हूं.
ASCI पर करेंगे मानहानि का मुकदमा
बाबा ने एडवरटाइजिंग स्टैण्डर्ड कौंसिल ऑफ इंडिया (ASCI) पर जमकर हमला बोला. बाबा के मुताबिक पतंजलि को भ्रामक विज्ञापन दिखाने के नाम पर 27 नोटिस भेजे गए. बाबा ने कहा की ASCI पतंजलि पर उसका मेंबर बनने का दबाव डाल रही है. जिसके सदस्य यूनिलिवर, पेप्सी जैसी बहुराष्ट्रीय कंपनियां हैं. बाबा ने कहा की हम प्रधानमंत्री को ASCI के खिलाफ चिठ्ठी लिखेंगे और उस पर मानहानि का मुकदमा करेंगे.

बाबा बनाएंगे 4 गौशाला
बाबा रामदेव ने कहा की जिस तरह आदि शंकराचार्य ने धर्म रक्षा के लिए 4 मठ बनाए, ऐसे ही गौरक्षा के लिए वो 4 गौशाला बना रहे हैं. बाबा ने कहा की 500 करोड़ रुपये हम गौसंवर्ध, संरक्षण और भारतीय गौनस्ल के सुधार में खर्च कर रहे हैं. आने वाले 2-3 सालों में उसका परिणाम दिखना शुरू हो जाएगा. बाबा के मुताबिक हिंदुस्तान की ही वो गाय जो 3-5 किलो दूध दे रही है, वो 50-60 किलो दूध देगी. और उसको देखने के लिए आपको ब्राजील नहीं जाना होगा.

रामदेव का इरादा आयुर्वेद पर रिसर्च के लिए सेंटर खोलने का भी है. रामदेव ने कहा की अब तक आयुर्वेद रिसर्च के लिए नाम मात्र पैसा सरकारों ने खर्च किया. बाबा ने कहा की वो 500 करोड़ रुपये आयुर्वेद रिसर्च पर खर्च करेंगे और आने वाले समय में ये रकम 1000 करोड़ रुपया तक होगी.

पतंजलि हरिद्वार, नागपुर, यूपी, एमपी, आंध्र प्रदेश और असम में भी फूड पार्क बनाएगी. महाराष्ट्र के नागपुर में फूड पार्क खोलने का मकसद है की विदर्भ के किसानों की बदहाली कम हो. बाबा ने कहा की आने वाले दिनों में पतंजलि प्रचार के जरिए घोषणा करेगी की जो कोई भी हमसे बेहतर प्रोडक्ट मुहैया करवाए तो उसे हम करोड़ो रुपये इनाम देंगे.

स्वदेशी के नाम पर पतंजलि का कारोबार खूब पनप रहा है. बहुराष्ट्रीय कंपनियों की नींद बाबा ने उड़ा दी है. बस अब देखना ये है की जिस तरह पतंजलि की तरक्की हो रही है उसी तरह पतंजलि से जुड़ने वाले किसानों की हालत भी बदलती है या नहीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *