स्पेन में जनमत संग्रह रोकने चली लाठियां, हिंसा के जवाब में लोगों ने दिए फूल

बार्सिलोना. स्पेन का कैटालोनिया राज्य अपनी आजादी के लिए लड़ाई लड़ रहा है। इसके लिए यहां के लोगों ने गांधीवादी तरीके से आंदोलन छेड़ रखा है। स्पेन की पुलिस ने रविवार को आयोजित जनमत संग्रह को रोकने के लिए लोगों पर लाठियां तक बरसाईं। 337 लोग जख्मी हो गए। मतपेटियां तक जब्त कर ली। लेकिन प्रदर्शनकारियों ने लोकतांत्रिक रास्ता अपनाते हुए अहिंसा की राह पकड़ी। पुलिस की हिंसा का जवाब फूल देकर दिया। 10 हजार पुलिस रही तैनात…
यह जनमत संग्रह कैटालोनिया राज्य के प्रेसीडेंट चार्ल्स प्युगडिमोंट ने रखा था। स्पेन सरकार और कोर्ट ने इस पर रोक लगा दी है। इसे रोकने के लिए राज्य के बाहर की 10 हजार पुलिस भेजी थी।
स्पेन से अलग होने की इच्छा रखने वालों की दलील:
हमारी भाषा-कल्चर स्पेन से अलग है। उनकी आर्थिक नीतियों के चलते हमारी नौकरियां जा रही हैं।
… साथ रहने वालों का तर्क:
कैटालोनिया को अन्य राज्यों से ज्यादा अधिकार मिले हैं। राज्य हेल्थ, एजुकेशन और टैक्स कलेक्शन जैसे अहम मुद्दे पर अपनी खुद की पॉलिसी बनाता है।
पुलिस को रोकने लोगों ने ब्लॉक किए रास्ते, पोलिंग स्टेशन के लिए बनाया एप
– 10 हजार अतिरिक्त दंगारोधी पुलिस स्पेन सरकार ने कैटालोनिया भेजी है। करीब 700 मेयर पर भी मामले दर्ज किए गए हैं। सैकड़ों गिरफ्तारी हुई हैं।
– वोटिंग के लिए लोगों ने दफ्तरों और स्कूलों पर कब्जा कर लिया। 2500 से अधिक वोटिंग स्टेशन की जानकारी देने के लिए एप बनाया।
– पुलिस को रोकने के लिए लोगों ने लेटकर रास्ते ब्लॉक कर दिए। पुलिस ने लाठीचार्ज किया। लोेग डटकर खड़े रहे, लेकिन हिंसा नहीं की।
– पुलिस ने इन्हें हटाने के लिए डंडे और रबड़ की बुलेट चलाई। 337 लोग जख्मी हो गए। 9 लोगों को अस्पताल में भर्ती करना पड़ा है।
53 लाख लोगों ने वोटिंग के लिए कराया था रजिस्ट्रेशन, 2,315 पोलिंग बूथ बनाए गए
– 90 लाख से अधिक मतपत्र जब्त किए गए। सर्वे के मुताबिक राज्य के 41% लोग अलग देश चाहते हैं। जबकि स्पेन के 70% लोग वोटिंग के विरोध में हैं।
– स्पेेन सरकार ने कुरियर सेवा भी बंद कर दी है। इसकी वजह से 50 लाख कुरियर अटके। 90 लाख मतपत्र व 15 लाख लिफाफे जब्त।
– बीते दिनों में 140 वेबसाइट बंद की गई है। कई इलाकों में इंटरनेट सेवाएं रोक दी गईं। पोलिंग स्टेशन एप को भी बैन कर दिया है।
– वोटिंग के लिए 53 लाख से अधिक लोगों ने पंजीकरण कराया था। करीब 2,315 पोलिंग बूथ बनाए गए थे।
प्रदर्शनकारियों ने एक पत्थर तक नहीं फेंका
कैटालोनिया के लोगों का कहना है कि जनमत संग्रह के जरिए हम सिर्फ अपनी राय बताना चाहते हैं। सब स्पेन से अलग नहीं होना चाहते है। हम लोकतांत्रिक लोग हैं। अगर पुलिस इसी तरह हिंसा जारी रखेगी तो हम पीछे नहीं हटेंगे।
कैटालोनिया का कल्चर ही फूल है…
जबकि जनमत संग्रह की मांग कर रहे कैटलन प्रदर्शनकारियों ने पुलिस हिंसा का जवाब फूलों से दिया। लाठी बरसा रहे पुलिस वालों को फूल ऑफर किए। पुलिस की गाड़ियों को भी फूलों से सजाया। फूल देना कैटलन कल्चर भी है।
स्पेन की 16% आबादी व जीडीपी में 21% हिस्सेदारी
– स्पेन की 16% आबादी कैटालोनिया में है। देश का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है।
– 25.6% स्पेन का निर्यात इसी राज्य से होता है। जीडीपी में 20% हिस्सेदारी।
– स्पेन का 20.7% विदेशी निवेश इसी तटवर्ती राज्य में आता है।
– स्पेन पर 123 लाख करोड़ का कर्ज है। कैटालोनिया के रेवन्यू का बड़ा हिस्सा इस कर्ज को पाटने में खर्च होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *