रामसेतु पर चलकर पहुंचते हैं India के End प्वाइंट, ऐसा नजर आता है आसपास का सीन

एक अमरीकी टीवी कार्यक्रम के प्रोमो ने भारत में ‘रामसेतु’ की राजनीति को फिर गरमा दिया है.

अमरीका के साइंस चैनल ने 11 दिसंबर को भारत-श्रीलंका को जोड़ने वाले पत्थर के पुल ‘रामसेतु’ पर कार्यक्रम का ट्विटर पर प्रोमो जारी किया.

प्रोमो के मुताबिक ‘रामसेतु’ के पत्थर और रेत पर किए गए टेस्ट से ऐसा लगता है कि पुल बनाने वाले पत्थरों को बाहर से लेकर आए थे और 30 मील से ज़्यादा लंबा ये पुल मानव निर्मित है.

भगवान राम की कथा महाकाव्य ‘रामायण’ में लिखा है कि भगवान राम ने लंका में राक्षसों के राजा रावण की क़ैद से अपनी पत्नी सीता को बचाने के लिए वानर सेना की मदद से इस पुल का निर्माण किया था. भारत के अलावा दक्षिण पूर्व एशिया में रामायण बेहद लोकप्रिय है.

एक मत है कि रामायण, इसके पात्र और उनसे जुड़ी कहानी एक कल्पना है. दूसरा मत इसे गलत बताता है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *