ये लेडी 180 की स्पीड से दौड़ाती थीं हार्ले डेविडसन बाइक , सड़क हादसे में मौत

जयपुर. जयपुर की मशहूर बाइक राइडर वीनू पालीवाल की सोमवार शाम मध्य प्रदेश के विदिशा के पास सड़क हादसे में मौत हो गई। सोमवार सुबह करीब सात बजे वे अपने एक दोस्त के साथ लखनऊ से रवाना हुए थे। बता दें की वीनू अपने दोस्तों के साथ इंडिया के टूर पर निकली हुईं थीं। वे लगातार अपना फेसबुक अपडेट कर रही थीं। ये हादसा होने से पहले भी उन्होंने अपने कुछ फोटो शेयर किए थे। जिसके साथ उन्होंने अपना एक्सपीरियंस भी लोगों के साथ शेयर किया था। मौत से पहले क्या था वो आखिरी मैसेज…
फेसबुक पर आखिरी मैसेज
– 44 साल की वीनू के परिवार में एक बेटा और बेटी है। कुछ साल पहले उनका तलाक हो गया था।
– उनके माता पिता दोनों ही बैंकर हैं। उन्हीं को देख वीनू एक प्रोफेशनल बाइक राइडर बनी थी।
– वे 24 मार्च को अपनी बाइक से पूरे देश के टूर पर निकली थी।
– वीनू ने दुर्गापुर से लखनऊ जाने से पहले फेसबुक पर मैसेज लिखा था कि अब हम यहां से निकल रहे हैं, लेकिन रास्ता खराब है।
– ट्रैफिक बहुत ज्यादा है। रोड भी खराब है और जगह-जगह जाम लगा है।
– लेकिन हमारा लीडर बेहद मजबूत है, आगे से आगे रास्ता बना रहा है।
दोस्त ने वायरलैस पर सुनी आखिरी आवाज
– वीनू के दोस्त दीपेश ने बताया कि हम दोनों आगे पीछे चलते और हेलमेट पर लगे वायरलैस से संपर्क में रहते थे।
– हादसे वक्त मैं आगे चल रहा था। अचानक मैंने वीनू को यह कहते हुए सुना-ओह शिट।
– मैंने पूछा तो उसने वायरलैस पर ही जवाब दिया-मैं गिर गई हूं। मैंने जाकर उसे संभाला, तब तक वह होश में थी।
– गाड़ी रुकवाकर वीनू को अस्पताल ले गया, जहां कुछ देर बाद ही उसकी सांसें थम गई। डॉक्टरों ने बताया कि वीनू की मौत लिवर फटने से हुई है।
– उसके शरीर पर किसी तरह की चोट नहीं थी। वीनू ने राइडिंग से पहले दिल्ली से रेबिट का 33 हजार कीमत का जैकेट खरीदा था।
– लखनऊ से रवाना होने के बाद हमने रास्ते में लंच किया था और सागर में पेट्रोल भरवाया था, तभी हमने यात्रा को पूरा करने के बारे में बातचीत की थी।
हॉग रानी रखा था नाम
– वीनू ने एक इंटरव्यू में बताया था कि मैंने अपनी हार्ले 48 को हॉग रानी नाम दिया है।
– खासियत है इसका 1200 सीसी का इंजन और 265 किलो वजन। इस बाइक की कीमत लाखों से शुरू होती है।
– उस वक्त उन्होंने बताया था कि ‘2016 में वे हॉग की 5 राइडिंग पूरा करने वाली थी, जिसे वे गोवा की ऑल इंडिया हॉग वीक से शुरू करने वाली थी।’
विरासत में मिला ये शौक
– वीना को बाइक चलाने का शौक विरासत में मिला था। उनके पिता भी बाइक चलाने के शौकीन थे।
– वे अक्सर वीना की मां के साथ बाइक पर लॉन्ग राइड्स के लिए जाते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *