मोदी सरकार ने फर्जी शैल कंपनियों के बैंक खातों पर लगाया प्रतिबंध,ये हुआ असर

नई दिल्ली. काले धन के खिलाफ लड़ाई पर अपने रुख को साफ़ करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि केंद्र सरकार ने नोटबंदी के बाद तीन लाख से अधिक फर्जी कंपनियों में से 1.75 लाख का रजिस्ट्रेशन रद कर दिया है. उन्होंने कहा कि दिलचस्प तथ्य यह है कि एक ही पते पर 400 से अधिक कंपनियां चलाई जा रही थी.

मोदी ने कहा कि देश के लोगों का धन लूटने वाले अब चैन से नहीं बैठ सकेंगे. उन्होंने कहा, ‘एक ऐसे देश में जहां एक कंपनी बंद होने पर बहस होती है, वहीं सरकार ने जनता का धन गबन करने वा ..

शेल कंपनियां गैर-ट्रेडिंग फर्म हैं जो विभिन्न वित्तीय कवायदों के लिए एक वाहन के रूप में इस्तेमाल की जाती हैं. वे करों का भुगतान करने से बच जाती है और ब्लैक मनी को वाइट करने में मदद करती हैं. मोदी ने कहा, “आप यह जानकर हैरान होंगे कि 400 कंपनियां एक ही पते पर काम कर रही थी. उनसे कोई पूछताछ नहीं हुई थी और यह खुले आम कर चोरी करने वालों और अधिकारियों की मिलीभगत से चल रही थी. इसके लिए, मैंने काले धन और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई शुरू की. उन्होंने कहा, सरकार देश के आम लोगों का जीवन बेहतर बनाने के लिए प्रतिबद्ध है और इस तरह के कदम से लोगों में ईमानदारी से टैक्स चुकाने की भावना बढ़ती है. मोदी ने कहा, ‘नोटबंदी की वजह से बैंकिंग सिस्टम में पैसा बढ़ा है और इस वजह से बैंक लोगों को सस्ते दर पर ब्याज लोन दे रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘बैंक ब्याज दरें घटा रहे हैं. कोई आम आदमी भी मुद्रा योजना के तहत बैंक से लोन ले सकता है. इससे लोगों में अपने पैर पर खड़े होने की ताकत बढ़ेगी. आम आदमी का घर खरीदने का सपना अब पूरा होता नजर आ रहा है और कम ब्याज के साथ ब्याज सब्सिडी योजना से उन्हें अपना सपना पूरा करने में मदद मिलेगी.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *