मुंबई सीरियल ब्लास्ट में सजा- ताहिर मर्चेंट और फिरोज को फांसी, अबू सलेम को उम्रकैद

1993 मुंबई सीरियल बम ब्लास्ट केस में फांसी की सजा पाए ताहिर मर्चेंट की पुणे में मौत हो गई है। बता दें कि सजा मिलने के बाद से वह पुणे की यरवदा जेल में बंद था। जानकारी के मुताबिक, तबीयत खराब होन के चलते उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां इलाज के दौरान बुधवार को उसकी मौत हो गई।

बता दें कि इससे पहले दिसंबर के पहले हफ्ते में सुप्रीम कोर्ट ने ताहिर मर्चेंट की फांसी पर रोक लगा दी थी। इसके साथ ही सर्वोच्च अदालत ने सीबीआई से छह हफ्ते में जवाब मांगा था। यही नहीं कोर्ट ने मुंबई की विशेष टाडा अदालत से केस से संबंधित जुड़े दस्तावेज भी तलब किए थे, बता दें कि टाडा कोर्ट ने ताहिर मर्चेंट को मुख्य साजिशकर्ता मानते हुए फांसी की सजा सुनाई थी।

उल्लेखनीय है कि 12 मार्च 1993 को मुंबई में 12 जगहों पर सीरियल बम धमाके हुए थे जिसमें 257 लोग मारे गए थे व 718 लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। इस मामले में बीते सात सितंबर को मुंबई की विशेष टाडा अदालत ने ताहिर मर्चेंट और फिरोज अब्दुल राशिद खान को मौत की सजा सुनाई थी। मामले में अबू सलेम को उम्रकैद जबकि पांचवें दोषी रियाज सिद्दीकी को 10 साल की सजा सुनाई गई थी।

जानें, कौन है ताहिर मर्चेंटः

ताहिर मर्चेंट याकूब मेनन का बेहद करीबी था। इसे ताहिर तकल्या के नाम से भी जाना जाता है। 1993 के बम ब्लास्ट के बाद ताहिर मर्चेंट फरार हो गया था। कोर्ट ने इस मामले में उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था। धमाके के बाद उसने दुबई में काफी मीटिंग अटैंड कीं, जिसमें याकूब मेमन और दाऊद इब्राहिम शामिल होते थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *