भारत के 10 वॉटरफाल, जो आपको रोमांचित कर देंगे

भारत एक ऐसा देश है जो प्रकृति के आकर्षणों से भरा हुआ है और इन्ही में से कुछ झरने भी शामिल है जिनकों देखने के लिए दूर-दूर से लोग यात्रा करते हैं। बता दें कि ऐसे खूबसूरत झरने भारत के लगभग हर राज्य में हैं जो अपनी खूबसूरती से पर्यटकों रोमांचित कर देते हैं।
झरने में उंचाई से जमीन पर गिरते हुए पानी को देखना आत्मा को एक सुकून देता है। यहाँ हम आपको भारत के 10 ऐसे सुंदर झरनों के बारे में बताने जा रहे हैं जो प्रकृति के रोमांच से भरपूर हैं।

1. भारत के प्रमुख जलप्रपात जोग झरना –

जोग जलप्रपात भारत के कर्नाटक राज्य का एक बहुत ही आकर्षक झरना है जो शिमोगा और उत्तरा कन्नड़ जिलों की सीमा पर स्थित है। यह खूबसूरत झरना शरवती नदी पर बना हुआ जो मेघालय राज्य के 335 मीटर उंचे नोहकलिकाई जलप्रपात के बाद देश का दूसरा सबसे उंचा जलप्रपात है। आपको बता दें कि जोग फॉल की ऊंचाई 254 मीटर है और जोग फॉल को जेरसप्पा या जोगा फॉल के नाम से भी जाना जाता है। जोग जलप्रपात कर्नाटक के प्रमुख पर्यटन स्थलों में एक है। जोग फॉल पर पहुंच कर आप कम से कम एक दिन का समय बिता सकते हैं और इस अद्भुत झरने की यात्रा का पूरा मजा ले सकते हैं। जोग फॉल के नजदीक स्थित लिंगनमाकी बांध और तुंगा एनीकट बांध को देखने जाना आपकी यात्रा को खास बना सकता है।

2. भारत के खुबसूरत झरने दूधसागर झरना गोवा –

दूधसागर झरना भारत के गोवा में पणजी से लगभग 60 कि मी। की दूरी पर स्थित एक सुंदर झरना हैं। आपको बता दें कि यह झरना यहां के मोल्लेम नेशनल पार्क के अंदर स्थित हैं और इसके आसपास एक दम हरा भरा वातावरण है। दूधसागर झरना 310 मीटर (1017 फिट) की उंची पहाड़ी से नीचे गिरता हैं और जब इसका पानी ऊंचाई चट्टानों से होकर बहता है तो बिलकुल दूध की तरह सफेद दिखाई देता है। दूधसागर जलप्रपात मानसून के मौसम बहुत की आकर्षक दिखाई देता है और दूर-दूर के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। दूधसागर झरने को भारत का चौथा सबसे ऊंचा जलप्रपात माना जाता हैं जबकि इसका नाम दुनिया के सौ सबसे उंचे झरनों की सूचि में शामिल है। दूधसागर झरने को फिल्म “चेन्नई एक्सप्रेस” में भी दिखाया गया हैं। इस झरने का पानी जब ऊंचाई से गिरता है तो ऐसा लगता है जैसे पहाड़ से दूध बह रहा है।

3. भारत के प्रमुख जलप्रपात भागसू फॉल्स –

भागसू झरना धर्मशाला में सबसे प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है और उन पर्यटकों को आकर्षित करता है जो प्राकृतिक जगहों को पसंद करते हैं। भागसुनाग झरना मुख्य सड़क पर स्थित है जो मैकलोडगंज और धर्मशाला को जोड़ता है। बता दें कि भागसू झरना धौलाधार घाटी के आधार पर शुरू होता है, जिसे एक धार्मिक स्थल भी माना जाता है। नीचे गिरने से पहले यह झरना भागसू मंदिर से होकर भी गुजरता है। भागसू फाल्स मानसून के मौसम में बेहद खूबसूरत दिखाई देता है, जब यहां पानी 30 फीट की उंचाई से गिरता है तो यह बेहद सुंदर दिखाई देता है।

4. भारत के प्रमुख जलप्रपात धुआंधार झरना –

धुआंधार झरना मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर से 20 किमी दूर स्थित है। आपको बता दें कि यह झरना नर्मदा नदी के पानी से बनता है। नर्मदा नदी संगमरमर की चट्टानों से होती बहती हुई 100 फुट नीचे की ओर झरने के रूप में गिरती है। यहां पर पानी इतनी तेजी के साथ गिरता है कि चारों तरफ सिर्फ धुआं उठता नजर आता है। इस झरने में पानी की फुहार घनी होकर धुएं का रूप ले लेती हैं। इसी वजह से इस जगह को धुआंधार फॉल्स कहा जाता है।

5. भारत के सुन्दर झरने सतधारा झरना –

सतधारा फाल्स हिमाचल प्रदेश राज्य में चंबा घाटी में स्थित है, जो बर्फ से ढके पहाड़ों और ताज़े देवदार के पेड़ों के शानदार दृश्यों के साथ भारी संख्या में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। सतधारा फाल्स प्रकृति के बेहद खूबसूरत प्रस्तुत करता है। बता दें कि इस झरने का नाम सतधारा झरना इसलिए रखा गया है क्योंकि इसका पानी सात खूबसूरत झरनों से एक साथ मिलता है। यह झरना समुद्र तल से 2036 मीटर की उंचाई पर स्थित है। यह जगह पर्यटकों को बेहद आकर्षक दृश्य प्रस्तुत करता है और उन लोगों के लिए एक दम सही है जो भीड़-भाड़ वाली जिंदगी से दूर जाकर शांति भरा समय बिताना चाहते हैं। सतधारा फाल्स की सबसे खास बात यह है कि ये औषधीय गुणों अपने की भी काफी प्रसिद्ध है। ऐसा कहा जाता है कि इस झरने के पानी से नहाने से त्वचा के रोग ठीक हो जाते हैं।

6. भारत में महत्वपूर्ण झरने जोगिनी वॉटरफॉल –

जोगिनी वॉटरफॉल मनाली की खूबसूरत घाटी में स्थित है, जो हलचल भरे शहर से लगभग 4 किलोमीटर और वशिष्ठ मंदिर से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। जोगिनी झरना एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है जहां पर पानी 160 फीट की ऊंचाई से गिरता है। जोगिनी जलप्रपात जाने के लिए वशिष्ठ मंदिर से देवदार के पेड़ों और बागों के माध्यम से ट्रेक है। यह वॉटरफॉल प्रकृति प्रमियों और एडवेंचर पसंद करने वाले लोगों के लिए बहुत अच्छी जगह है। मनोरम जोगिनी वॉटरफॉल को सबसे रोमांटिक स्थल कहा जाता है यह कपल्स को बेहद पसंद आता है।

7. इंडिया के प्रसिद्ध झरने चित्रकोट जलप्रपात –

चित्रकोट भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के बस्तर जिले में इंद्रावती नदी पर स्थित एक खूबसूरत और प्राकृतिक झरना है, जिसे नियाग्रा फॉल्‍स के नाम से भी जाना जाता है। जगदलपुर के से 38 किलोमीटर दूर स्थित इस झरने में पानी लगभग 100 फीट की उंचाई से गिरता है और बारिश के मौसम में दौरान यह झरना 150 मीटर तक चौड़ा हो जाता है। विंध्याचल पर्वतमाला में स्थित यह झरना छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश के बीच फैला है। वैसे तो साल भर इस झरने को देखने के लिए पर्यटक आते हैं लेकिन मानसून के मौसम के दौरान इस झरने को देखने पर्यटकों को भीड़ आती है।

8. भारत में महत्वपूर्ण झरने सोउचीपारा फॉल्स –

सोउचीपारा फॉल्स वायनाड में स्थित तीन-स्तरीय झरना है जो पर्णपाती, सदाबहार और मोंटाने के जंगलों से घिरा हुआ है। आपको बता दें कि यह झरना भारत के सबसे बड़े झरनों में से एक है जिसमें पानी 200 मीटर की उंचाई से गिरता है और पर्यटकों को एक अदभुद दृश्य प्रदान करता है। इस झरने की सबसे रोमांचक बात यह है कि इस झरने से गिरने वाला पानी एक पूल कर निर्माण करता है जिसमें पर्यटक तैराकी कर सकते हैं और नहाने का मजा ले सकते हैं। सोओचीपारा झरने से गिरने वाला पानी बाद में केरला और तमिलनाडु की पहाड़ियों के बाद चूलिका नदी यानि चालीयार नदी में मिल जाता है। झरने के साथ विभिन्न वनस्पतियों और जीवों से भरे हुए इस क्षेत्र की यात्रा करना पर्यटकों के लिए बेहद खास साबित हो सकती है।

9. भारत में महत्वपूर्ण झरने नोहसिंगिथियांग फॉल्स –

नोहसिंगिथियांग फॉल्स चेरापूंजी से लगभग 4 किमी की दूरी पर स्थित एक ऐसा झरना है जो भारत के सबसे ऊंचे झरनों में से एक है। नोहसिंगिथियांग फॉल्स चेरापूंजी में एक प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। यह झरना मेघालय के पूर्वी खासी हिल्स जिले के मव्समाई गांव में स्थित है, इसलिए इसे मवसई जलप्रपात भी कहा जाता है। नोहसिंगिथियांग फॉल्स में पानी 1033 फीट की ऊंचाई से गिरता है जो पर्यटकों को बेहद अदभुद दृश्य प्रस्तुत करता है। इस झरने को सात अलग-अलग भागों में विभाजित किया गया है जो इसे सेवन सिस्टर वाटरफॉल का प्रतीक बताते हैं। बता दें कि यह एक मौसमी झरना है जो केवल बारिश के मौसम में चूना पत्थर से ढकी पहाड़ियों के ऊपर आ जाता है। नोहसिंगिथियांग फॉल्स की सुंदरता सूर्यास्त के दौरान अपने चरम पर होती है जब सूर्य की किरणें उस पर एक बारहमासी इंद्रधनुष बनाते हैं।

10. भारत में महत्वपूर्ण झरने केम्प्टी फॉल्स –

केम्प्टी फॉल्स उत्तरखंड राज्य के मसूरी में स्थित है जिसमें पानी 40 फीट की ऊँचाई से जमीन पर गिरता है। केम्प्टी फॉल्स भारत में स्थित पानी का एक सुंदर झरना है उच्च पर्वतीय चट्टानों से घिरा हुआ है और समुद्र तल से लगभग 4500 फीट की ऊँचाई पर बसा है। केम्पटी झरना अपने मनोरम परिवेश और प्राकृतिक सुंदरता के कारण जॉन मेकिनन द्वारा पिकनिक स्थल के रूप में विकसित किया गया था। उत्तराखंड के सबसे प्रसिद्ध झरनों में से एक केम्प्टी फॉल्स पहाड़ों से पानी गिरते ही एक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। केम्प्टी फॉल्स भारी संख्या में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। फॉल्स के तल पर बना तालाब पर्यटकों के लिए तैराकी और स्नान के लिए लिए कार्य करता है। अगर आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ पिकनिक बनाने की कोई अच्छी जगह तलाश रहें हैं तो केम्प्टी फॉल्स आपके लिए एक आदर्श जगह है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *