प्लान बनाकर की बॉल टैम्परिंग- ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ

बॉल टैम्परिंग मामले में आईसीसी ने ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ और ओपनर बल्लेबाज कैमरन बैनक्रॉफ्ट को दोषी पाया है। आईसीसी ने स्मिथ को एक मैच के लिए सस्पेंड किया है और 100% मैच फीस का जुर्माना लगाया है। वहीं बैनक्रॉफ्ट पर मैच फीस का 75% का जुर्माना लगाया गया है। उन्हें 3 डीमेरिट पॉइंट्स भी दिया गया है। आईसीसी ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी।

इस मामले को लेकर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री मैलकम टर्नबुल ने भी दुख जताया है। उन्होंने कहा, ‘विश्वास नहीं हो रहा एक आदर्श टीम ऐसी धोखाधड़ी में शामिल है। मैं हैरान हूं। सीए को इस पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए।’ टर्नबुल की अगुवाई वाली ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने स्मिथ को कप्तानी से हटाए जाने की मांग भी की। दिन का खेल खत्म होने के बाद स्टीव स्मिथ और बेनक्रॉफ्ट ने बॉल टैम्परिंग की बात स्वीकार कर ली। स्मिथ ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया ने अधीरता में यह प्लानिंग की। ऐसा करना गलत था। हम आगे ऐसा कभी नहीं करेंगे।

कब-कब किस पर लगे आरोप

बॉल टैम्परिंग से लेकर स्मिथ पर बैन लगने तक की पूरी कहानी….

ऑस्ट्रेलियाई ओपनर बेनक्रॉप्ट से टैम्परिंग को लेकर पूछताछ करते दोनों अंपायर।

सीए पर ऑस्ट्रेलिया के अंदर भारी दबाव

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के ऊपर स्टीव स्मिथ सहित तमाम दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने का भारी दबाव है। ऑस्ट्रेलियन स्पोर्ट्स कमीशन और वहां की सरकार ने सीए से कहा है कि इन पर कोई रहम ना किया जाए। सभी खिलाड़ियों का ट्रायल होगा और अधिकतम सजा के तौर पर आजीवन प्रतिबंध तक लगाया जा सकता है।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाड़ी पर आरोप

टैम्परिंग विवाद के बाद ऑस्ट्रेलिया के पीएम नेे भी की स्मिथ को हटाने की मांग

केपटाउन टेस्ट में बॉल टैम्परिंग सामने आने के बाद ऑस्ट्रेलिया के पीएम मैलकम टर्नबुल ने अपने ही देश के कप्तान स्मिथ को पद से हटाने को कहा। वहीं, पूर्व कप्तान माइकल क्लार्क ने कहा, ‘कोई कह दे कि यह सच नहीं है, बुरा सपना है।’

क्या किया | केपटाउन टेस्ट के तीसरे दिन लंच के बाद के खेल में ऑस्ट्रेलियाई ओपनर बेनक्रॉफ्ट पीले रंग के टुकड़े को गेंद पर रगड़ते हुए देखे गए। वे गेंद के चमकीले हिस्से की उल्टी दिशा को रफ करने की कोशिश कर रहे थे ताकि रिवर्स स्विंग मिले। उनकी यह हरकत टीवी कैमरे की जद में आ गई और इससे ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट में बड़ा भूचाल आ गया।

क्यों किया: पहली बार सीरीज हारने का खतरा…

1. मैच की स्थिति

ऑस्ट्रेलिया की टीम पहली पारी के आधार पर 56 रन से पिछड़ी थी। दूसरी पारी में दक्षिण अफ्रीका की टीम दो विकेट पर 100 से ज्यादा रन बना चुकी थी। वापसी के लिए टैम्परिंग की गई।

4. दर्शकों ने हूटिंग शुरू की

दक्षिण अफ्रीकी दर्शक भी मैच में हर मौके पर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की हूटिंग करने लगे। उनकी प|िंयों को गाली देने की घटनाएं भी हुईं। वार्नर पर विशेष रूप से निशाना साधा गया।

नतीजा: अब इस दाग के साथ ही जिएगी पूरी टीम

भारत के सचिन तेंडुलकर पर आरोप

उदयपुर, सोमवार, 26 मार्च, 2018

2. सीरीज की स्थिति

इस मैच से पहले दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर थी। इस मुकाबले में जीतने वाली टीम का चार मैचों की सीरीज में न हारना तय हो जाता। साथ ही उसके सीरीज जीतने की संभावना भी काफी बढ़ जाएगी।

5. इतिहास का बोझ

दक्षिण अफ्रीकी टीम नस्लभेद के कारण 22 साल का प्रतिबंध झेलने के बाद जब से इंटरनेशनल क्रिकेट में वापस लौटी है, तब से ऑस्ट्रेलिया उसके घर में टेस्ट सीरीज नहीं हारा है।

पाकिस्तान की पूरी टीम पर आरोप

3. खराब संबंध

सीरीज में दोनों टीमों के खिलाड़ियों के संबंध निचले स्तर तक चले गए। वार्नर और नाथन लायन ने एबी डिविलियर्स और मार्करम को गालियां दी थी। फिर रबाडा का मामला भी हुआ।

स्मिथ ने बताया-ड्रेसिंग रूम में बनाया था प्लान, बेनक्रॉफ्ट को दिया गेंद खराब करने का जिम्मा

क्या बेईमान और बदमाश हैं स्मिथ, ये हैं चार मिसाल

ब्रेन फेड वाकया

भारत के खिलाफ बेंगलुरु टेस्ट में अंपायर ने स्मिथ को आउट करार दिया। स्मिथ डीआरएस लेने से पहले ड्रेसिंग रूम का सहारा लेना चाहते थे। विराट ने पकड़ लिया। आपत्ति जताई। तब स्मिथ ने कहा था कि वे ब्रेन फेड का शिकार हो गए थे। यानी उन्हें सूझ नहीं रहा था कि क्या करें।

विरोधियों को बुली करते हैं

इंग्लैंड के जेम्स एंडरसन ने स्मिथ को विपक्षी खिलाड़ियों को बुली करने वाला यानी परेशान करने वाला इंसान बताया। स्मिथ ने पलटवार करते हुए एंडरसन को सबसे ज्यादा स्लेजिंग करने वाला क्रिकेटर कहा।

इंग्लैंड के खिलाड़ियों पर आरोप

322 रन से जीता अफ्रीका, सीरीज में 2-1 से आगे

मोर्कल को बधाई देते डिविलियर्स

केपटाउन | बॉल टैम्परिंग विवाद के बीच दक्षिण अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया से तीसरा टेस्ट 322 रन से जीत लिया। अफ्रीकी टीम ने दूसरी पारी में 373 रन बनाए। उसे पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया पर 56 रन की बढ़त मिली थी। इस तरह ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 430 रन का लक्ष्य मिला। मेहमान टीम के लिए यह लक्ष्य बहुत बड़ा साबित हुआ और वह महज 39.4 ओवर में 107 रन बनाकर आउट हो गई। दूसरी पारी में 5 विकेट लेने वाले मोर्न मोर्कल को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *