निर्मला सीतारमण को पदभार के लिए को 2 दिन करना पड़ेगा इंतजार, जेटली ने बताई बड़ी वजह

नई दिल्ली : 

मोदी सरकार में नई रक्षा मंत्री बनीं निर्मला सीतारमण को रक्षा मंत्रालय संभालने के लिए अभी दो दिनों का इंतजार करना होगा। रक्षा रक्षामंत्री का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे वित्त मंत्री अरुण जेटली के देश वापस लौटने के बाद उन्हें औपचारिक पदभार दिए जाएगा।

इसका सबसे बड़ा कारण ये है कि बतौर रक्षा मंत्री जेटली आज जापान दौरे पर रवाना हुए है। जापान में वित्त मंत्री जेटली सुरक्षा मुद्दों से जुड़ा अहम द्वपक्षीय वार्ता करेंगे। जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे भी इस महीने भारत की यात्रा पर आ रहे हैं।

पूर्व रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर के गोवा का मुख्यमंत्री बनने के बाद जेटली को रक्षामंत्री का अतिरिक्त प्रभार दिया गया था। जेटली रविवार की रात को जापान रवाना हुए हैं, जहां वह अपने जापानी समकक्ष से द्विपक्षीय वार्ता करेंगे।

दौरे पर जाने से पहले जेटली ने पत्रकारों से कहा, ‘मैं आज रात जापान की यात्रा पर जा रहा हूं। वैसे तो नए रक्षामंत्री को जाना चाहिए था, लेकिन रविवार होने की वजह से ऐसा संभव नहीं हो सका।’

उन्होंने कहा, ‘जापानी प्रधानमंत्री के भारत दौरे से पहले दोनों देशों के बीच यह काफी महत्वपूर्ण सुरक्षा वार्ता है, इसलिए बदलाव संभव नहीं है। मैं अगले दो दिनों तक वार्ता पूरी होने तक रक्षामंत्री के तौर पर काम करूंगा और सीतारमण वार्ता समाप्त होते ही यह पदभार संभाल लेंगी।’

जेटली ने सीतारमण की नियुक्ति पर कहा कि वह इस पद के लिए पूरी तरह सक्षम हैं और उनकी नियुक्ति से पूरे विश्व में साकारात्मक संदेश जाएगा।

जेटली ने कहा, ‘मैं इस बात से बहुत खुश हूं कि मेरे पास अब एक सफल उत्तराधिकारी है, जिसने अपना सराहनीय तरीके से किया है और खुद को साबित किया है। उसने अपने लिए उपयुक्त जगह पा ली है।’

उन्होंने कहा, ‘उनकी नियुक्ति देश के लिए काफी अच्छा है, न सिर्फ महिलाओं के लिए, बल्कि इससे पूरे विश्व में संदेश जाएगा।’

जेटली ने कहा कि सीतारमण के रक्षा मंत्री नियुक्त होने के बाद मंत्रिमंडल की सुरक्षा समिति (सीसीएस) में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ महिलाओं की संख्या दो हो गई है। यह इतिहास में पहला मौका है जब सीसीएस में दो महिलाएं शामिल हुई हैं।

मंत्रिमंडल फेरबदल के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैबिनेट में बदलाव कर जवाबदेही का नया बेंचमार्क स्थापित किया है।

जेटली ने कहा, ‘कैबिनेट में नई नियुक्ति से प्रधानमंत्री ने जवाबदेही का नया बेंचमार्क स्थापित किया है। सभी मंत्रियों और विभागों का लगातार निरीक्षण किया जा रहा है और उन्हें पता है कि कौन अच्छा प्रदर्शन कर सकता है। अच्छे प्रशासनिक अनुभव वाले नए लोगों को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। ये वे लोग हैं, जो रिटायरमेंट के बाद बीजेपी में शामिल हुए थे। मैं इसके लिए निश्चिंत हूं कि इनका कार्यकाल सफल होगा।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *