नरसिंह को नाडा ने इन वजहों से दी क्लीन चिट, रियो ओलिंपिक में लेंगे हिस्सा

भारतीय पहलवान नरसिंह यादव की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. वर्ल्ड डोपिंग एजेंसी यानी वाडा ने नरसिंह को क्लीनचिट दिए जाने के खिलाफ खेल पंचाट में अपील की है. अब इस मामले पर 18 अगस्त को सुनवाई होगी. नरसिंह के रियो में खेलने पर ज्यूरी आखिरी फैसला करेगी. यही नहीं, अगर वाडा नरसिंह के पक्ष से संतुष्ट नहीं हुई तो वह उन पर चार साल की पाबंदी लगा सकती है. 19 अगस्त को नरसिंह का मुकाबला है लेकिन अब उनके खिलने पर सस्पेंस पैदा हो गया है.

नरसिंह की मुश्किलें बढ़ी

यही नहीं, अगर वाडा नरसिंह के पक्ष से संतुष्ट नहीं हुई तो वह उन पर चार साल की बैन लगा सकती है.19 अगस्त को नरसिंह का मुकाबला है लेकिन अब उनके खेलने पर सस्पेंस पैदा हो गया है.

लंदन ओलंपिक में मिले थे भारत को दो पदक
लंदन ओलंपिक में भारत ने कुश्ती में दो पदक जीते थे लिहाजा इस बार आठ सदस्यीय दल से उस प्रदर्शन के दोहराने की उम्मीद है. ओलंपिक से पहले हालांकि भारतीय दल की तैयारियां विवादों से घिरी रही, जब नरसिंह को आखिरी मौके पर डोपिंग स्कैंडल से खुद को पाक साफ निकालने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा. नरसिंह से जुड़े डोपिंग विवाद के कारण पूरी टीम की तैयारियां बाधित हुई है. लेकिन नरसिंह ने साहस के इसका सामना किया और तमाम मुश्किल परिस्थितियों से विजयी होकर निकले. विवाद की शुरुआत तब हुई जब दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार ने 74 किलो फ्रीस्टाइल वर्ग में चयन ट्रायल की मांग की जबकि भारत के लिये कोटा नरसिंह ने हासिल किया था. मामला दिल्ली उच्च न्यायालय तक गया जिसने सुशील की मांग खारिज कर दी थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *