150 करोड़ से ज्यादा लोग अपने ही घरों में कैद, 50 देश खुद में ही कैद

अमेरिका में फीसदी आबादी कोरोना की चपेट में आ सकती है। मीडिया रिपोर्ट्स में यह दावा किया गया है। रिपोर्ट्स में कहा गया है कि अमेरिका में चीन, ईरान और इटली जैसे हालात बन सकते हैं। तब उसे सख्ती करनी होगी। चीन में लोगों पर ड्रोन कैमरों से नजर रखी गई थी। उन्हें घर में ही रहने को कहा गया था।

Demo Photo.

ईरान में बड़े अधिकारी संक्रमित हुए तो डॉक्टरों ने अंतरराष्ट्रीय बिरादरी से सख्त प्रतिबंध हटाने की मांग की ताकि वे जीवन रक्षक उपकरण खरीद सकें, हालांकि वे विफल रहे। इटली में तो बुजुर्गों को छोड़कर जवानों को जरूरी उपकरण देने का फैसला लिया गया। ऐसी ही कड़ी चुनौतियां अमेरिका के सामने भी आ सकती हैं।

उधर, अमेरिका में अब तक 69 मौतें हो चुकी हैं। विशेषज्ञों ने 14 दिनों के लिए शटडाउन की सिफारिश की है। अमेरिका के सर्जन जनरल डॉ. जेरोम एडम्स ने चेतावनी दी की हम दूसरा इटली हो सकते हैं।

न्यूयॉर्क के गवर्नर एंड्र्यू एम कुओमो ने बताया कि हम ऐसा युद्ध देख रहे हैं, जो अभी तक किसी ने नहीं देखा। इतने खतरनाक नतीजों वाले वायरस से कभी भी लड़ाई नहीं की है। बस कुछ ही समय की बात है और आईसीयू में बेड भर जाएंगे। हमें और ज्यादा बेड की जरूरत पड़ेगी, दूसरी ओर हम रिजर्व हेल्थ स्टाफ (रिटायर्ड डॉक्टर, नर्स, नेशनल गार्ड्स) की भी पहचान कर रहे हैं, ताकि जरूरत पड़ने पर उन्हें मैदान में उतार सकें।

अमेरिका में जरूरत से ज्यादा राशन खरीदने पर रोक लग गई है। वॉलमार्ट स्टोर 24 घंटे नहीं खुलेंगे। ब्रिटेन में लोगों को घरों में रहने को कहा गया। फ्रांस ने रेस्त्रां, कैफे, सिनेमा और अन्य गैरजरूरी दुकानें बंद की। अमेजन, गूगल, फेसबुक के कर्मचारी घर से काम कर रहे हैं।

एविएशन इंडस्ट्री 90 साल के बुरे दौर में है। इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के मुताबिक, हालात यही रहे तो कई कंपनियां बर्बाद होंगी।

33 करोड़ बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं। 5 करोड़ यूनिवर्सिटी छात्र भी प्रभावित हो रहे हैं। 300 से ज्यादा इंटरनेशनल स्पोर्ट्स इवेंट और टूर्नामेंट रद्द या स्थगित करने पड़े हैं। 10 देशों में इमरजेंसी लागू है।150 करोड़ लोग घरों में ही कैद रहने पर मजबूर हैं। 50 से ज्यादा देशों ने दूसरों देशों के लोगों के अपने यहां आने पर पाबंदी लगा दी है।

द. अफ्रीका ने ईरान-चीन के 10 हजार वीसा रद्द किए। जर्मनी ने फ्रांस समेत 6 देशों की बॉर्डर सील की। अमेरिका ने स्कूलों ने नई हेल्थ गाइडलाइन जारी की। इराक में 24 मार्च तक कर्फ्यू लगा दिया गया है। हंगरी ने कई देशों के साथ लगी सीमाएं सील कीं। ऑस्ट्रेलिया में विक्टोरिया में स्वास्थ्यकर्मियों को लोगों की गिरफ्तारी, घरों की तलाशी के अधिकार दिए गए।

श्रीलंका में कोरोना के लक्षण छुपाए तो 6 महीने जेल की सजा का प्रावधान। चीन के 13 प्रांत में कोरोना का नया मामला नहीं आया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *