सेंसेक्स में इतिहास की सबसे बड़ी तबाही, 2919 अंक गिरा, 8.18 फीसदी की गिरावट

देश और दुनियाभर के शेयर बाजारों में जहां गुरुवार को रिकॉर्ड गिरावट देखी गई। बीएसई के 1,180 शेयरों ने 52 सप्ताह का निचला स्तर छुआ। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित किए जाने के बाद गुरुवार को सेंसेक्स में 8.18 फीसदी या 2,919.26 अंकों की और निफ्टी में 8.3 फीसदी या 868.25 अंकों की गिरावट दर्ज की गई।

गुरुवार को सेंसेक्स 34472.5 पर खुला था। दोपहर 2 बजकर 40 मिनट पर यह अधिकतम 3165 पॉइंट लुढ़कर 32531.74 पर जा चुका था। क्लोजिंग के वक्त यह थोड़ा संभला। फिर भी 2919.26 अंक की गिरावट के साथ 32,778.14 पर बंद हुआ।

इससे पहले सेंसेक्स में पिछली बड़ी गिरावट इसी महीने की 9 मार्च को आई थी, जब यह इंट्राडे में 2467 पॉइंट तक गिर गया था, बाद में थोड़ा संभलकर 1941 अंक नीचे गिरकर बंद हुआ।

गुरुवार को बाजार में आई रिकार्ड गिरावट के बाद बीएसई बीयर मार्केट के करीब पहुंच गया है। बीयर मार्केट ऐसी स्थिति होती है जब इंडेक्स या निवेश की वैल्यू हाल के उच्च स्तर से 20% या उससे नीचे गिर जाती है।

इस साल की बात करें तो सेंसेक्स 2020 अब तक 19.60% गिर चुका है। 1 जनवरी को बाजार 41306 अंकों पर खुला था। 12 मार्च को बाजार 32,778.14 अंकों पर बंद हुआ।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, बजाज ऑटो, एचपीसीएल, आईटीसी, एल&टी, स्पाइसजेट, एबीबी, हीरो मोटोकॉर्प, एसीसी, बीईएमएल, जीएआईएल, जिलेट और ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल उन 1180 स्टॉक में रहे, जिन्होंने 52 हफ्तों का सबसे निचला स्तर छुआ।

पिछले सात दिनों में टीसीएस के शेयरों में 12%, बर्जर पेंट्स में 15%, इंडिगो में 18% तो स्पाइसजेट के शेयरों में 36% की गिरावट आ चुकी है। इसी तरह देश की सबसे बड़ी बैंक एसबीआई के शेयरों में 26% की गिरावट आ चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *